Tuesday, 4 March 2014

Need More Tharoor

Shashi Tharoor is MP from Kerala state & our present Minister of State for Human Resource Development. He is among the few MPs, who daily give updates for their development works . He is doing his best to make development in all fields of Kerala & India. Shashi Tharoor is doing all possible work to provide Kerala an international platform.

A great writer from age of 6, Tharoor wrote many books. A great spoke person who is having in-depth knowledge of India and it's politics. Ex External Affair Minister did great work in foreign affairs. His books have mind blowing impact on People across world. His books gives insights of India & world. His books talk about traditional culture to economical reforms.

Rajdeep Sardesai told “In the age of marketing, there is perhaps no social category as attractive as the urban ‘youth’ brand. The MTV generation has spawned channels, products, a lifestyle designed to promote this ‘youth’ culture. And now, in the battle for power in the next general elections, it is this ubiquitous youth factor that is expected to play a bigger role than ever before.”

In 2014 general election number of voters between age of 18 and 23 will be 110 million of the 800 million eligible voters. Rajdeep farther told,This is, in a sense, the Virat Kohli generation, not even the Sachin Tendulkar one: their appetite for Twenty20 cricket is translated into their life goals: a generation which is aggressive, aspirational, consumerist and impatient for change. This is an India, especially in the metros, which has only used mobiles, never seen a black and white TV, is Internet savvy and never heard of the Soviet Union."

I enjoyed reading Rajdeep’s post “Making a connection”. He crafted all his points very well and I can see the most of this skills in Shashi Tharoor. I see Tharoor as visionary. Shashi Tharoor is very active in parliament session. We can see Shashi on news channels 
talking about the Good works done by Congress in last ten years. We all know that RTI,Food Security Bill & Lokpal is a effort of Congress for benefits of common man in India. Shashi is also raised his voice on sensor ship on social media.

We have seen him attending press conference, going to book release show, interacting with people. Tharoor was 1st Indian politician to cross million follower on twitter & tech savvy Tharoor has his FB page with all updates. I myself communicated many time with Tharoor. I mostly found him inspiring and Tharoor can motivate youth.

We need all representatives of India should be well educated. If Political Leaders are knowledgeable then they can do good work for people. If they are having good knowledge then rate of development will be faster. You can go to www.shashitharoor.in for more information about Shashi Tharoor.

We need more number of Tharoor for well- educated and developed India. We need more number of Tharoor for Super Power India.

Monday, 3 March 2014

Black Money

It is said that black money in India, accounts for 20 % of GDP. If this is true, then black money generated every year must be around Rs 400,000 crore or $80 billion. This is a huge amount, more than the entire budget of the government at the Centre. We have a government that spends about Rs 350,000 crore a year on various social & economical schemes.

On the other side, we have black money worth Rs 400,000 crore every year, which is just guesswork, and there are no accounts for it. This money goes into property, which is why real estate prices are so high. If the government could have all this money, or even a small fraction, there would be no need for revenue deficit or fiscal deficits, and no need for huge borrowings to make two ends meet.

How big is $100 billion? It is bigger than you think. It is worth Rs 500,000 crore, which makes it bigger than the central budget. It is more than twice our annual exports. It is equivalent to 30 times what Enron is supposed to have invested on its Dabhol project. It is more than what the US government is expected to pay those who have suffered from the September 11th smash. And, if you must know, it is a fifth of our annual GDP, which is itself a big figure.

Why our Indian government does not has any control on Black Money. Many of our powerful Netas have share in black money so they don’t want to regularize things for the accounting of Black Money. Our Netas declare their assets at the time of election and EC also put guidelines for the expenses and other details for the promotion but we all know that Black money is involved in every promotion of election with great extent.

Neta conduct rally at the time of election to get the people. They pay Rs 250-1000. Let me tell you in few lacs there won’t be hording on every corner of Road. In Election campaign you will get alcohol free for days when your Neta is on trail of election campaign. You’ll get free lunch & dinner. There is no Tds on payment and no revenue receipt for payment more than Rs500 in cash.

We all know the issue and problem but can not do anything and our Netas don’t want to do anything. Everyone Knows that A Rupee left from Delhi reach to the people as 15paisa but When A Rupee left from Delhi will reach as Rupee to people. Indian people send money to Swizz account through Havala. Swizz bank give that money to World Bank. We borrow loan from world bank & pay interest on that money. Which is nothing but our own money.

We know all the problems and reasons but don’t know when it’ll get solved as our Netas don’t want to solve and from just writing a article I can not solve it too.

Wednesday, 26 February 2014

मिग 29 की आत्मकथा

मैं मिग हू।  मैं एक लड़ाकू विमान हू।  मेरा जन्म अक्टूबर 1977  में रूस में हुआ।  संयुक्त राज्य अमेरीका से लड़ने के लिए मेरा जन्म हुआ था।  मैंने रूस के शीतकालीन यूद्ध में उसकी बहुत मदत कि और उन्हें कई मोर्चो पर जीत दिलाई।  मेरे कई भाई बहन इस यूद्ध के दौरान शहीद हो गए। मेरे  जन्म के बाद मैंने कई देशो का भ्रमण किया।  यूगोस्लाविया, सर्बिआ , जर्मनी , पोलैंड , संयुक्त राज्य अमेरिका , ईराक , सूडान कुछ ऐसे देश है जहाँ मैं उनके लोगो के बीच जाकर पला बढ़ा।  

80 के दशक में मैं भारत आया ।  भारत आने से पहेले मैंने कई देशो के युद्धों में भाग लिया। मेरे कई भाई युद्धो में शहीद हुए और मैं हमेशा देश कि रक्षा करते रहा।  भारत ने मुझे अपने वायु सेना में शामिल तो कर लिया परन्तु मुझे कभी किसी युद्ध में इस्तेमाल नहीं किया।  कारगिल युद्ध के समय मेरे कई भाईयो ने पाकिस्तानी घुसपैठियो को भगाने में भारतीय सेना कि मदत कि परन्तु मैं सिर्फ हाथ पे हाथ रखकर अपनी बरी का इंतज़ार करता रहा।  

मैंने कई बार 15 अगस्त और 26 जनवरी को लालकिले के ऊपर कला बाजिया करकर लोगो का मन बहलाया परन्तु मुझे इस कार्य में कभी ख़ुशी नहीं हुई।  मेरा काम देश कि रक्षा करना था, न कि मसखरा बनकर लोगो का मन बहलाना।  भारत ने मुझे इतने पैसे खर्च करकर ख़रीदा परन्तु उन्होंने मेरा सही उपयोग कभी नहीं किया। मैं अपनी भारत कि जिंदगी से खुश नहीं था।  मुझे यहाँ का जीवन रास नहीं आ रहा था,  परन्तु मेरे पास कोई पर्याय नहीं था।  जैसे तैसे मैं अपने दिन काट रहा था।  

एक दिन अचानक मुझे पता चला की एक हवाई अभ्यास के दौरान मेरे एक भाई कि दुर्घटना में मृत्यु हो गई।  उसके बाद एक एक करके मेरे कई भाई अभ्यास के दौरान वीरगति को प्राप्त हो गए।  ऊनमे से कई ऐसे थे जिन्होंने कभी किसी यूद्ध में भाग नहीं लिया।  2009 में रूस ने मिग 29 का उपयोग बंद कर दिया परन्तु भारत अभी भी कलाबाजियों के प्रदर्शन में मेरा उपयोग कर रहा था।  इन हवाई अभ्यासों और कलाबाजियों से मुझे अब डर लगने लगा था। 

एक दिन मैंने हवाई अभ्यास के लिए जामनगर के आकाश में उड़ान भरी।  मुझे कुछ अनिष्ठ होने कि आशंका लग रही थी मेरे पंख जैसे मुझे उड़ने के लिए मना कर रहे थे परन्तु मेरे बस में कुछ नहीं था।  मैं जैसे ही आसमान में पंहुचा मेरी साँसे भारी होने लगी।  मैंने तुरन्त अपने चालक को इस बात कि सूचना दे दी , परन्तु अब शायद देर हो चुकी थी।  मेरा चालक और मैं जमीन पर आ गिरे और इस दुर्घटना में हम दोनों कि मृत्यु हो गई।  दूसरे दिन कई अखबारो कि सुर्खियो में मेरा नाम छपा था।  

मुझे मरने का डर कभी नहीं था , क्योंकि मेरा काम ही कुच्छ ऐसा था कि मौत तो एक दिन आनी ही थी , परन्तु मैं यूद्ध में अपने देश कि रक्षा करते हुए मरना चाहता था। मैं चाहता था कि मुझे जब कभी वीरगति मिले, मेरे भाई मेरे आस पास ए देखने के लिए हो कि किस तरह मै बहादुरी से उनके साथ लड़ा और लड़ते लड़ते वीर गति को प्राप्त हुआ। आशा करता हू कि अगले जनम में मेरी ये हालत नहीं होगी।  

Tuesday, 25 February 2014


Monday, 24 February 2014

कोयले की चोरी

कमाल सुबह उठा और जैसे ही उसके हाथ मे अखबार आया वो
कोयले की चोरी का मामला पढ़कर हक्का - बक्का रह गया. कोयले हमारे भारत की
भू संपदा है उसका चोरी होना कोई मामूली बात नहीं थी. कमाल सोच सोच कर हैरान
था की कोयला चोरी कैसे हुआ.  कमाल नुक्कड़ पर चाय पीने आया तो लोगो से बात
करने लगा की किस तरह करोडो का कोयला चोरी हो गया. कमाल ने गाँव के लडको के
साथ कभी बार मालगाड़ी मे से कोयला चुराया पर कभी भी उसे बेचने के बाद हज़ार
रुपये से ज्यादा नहीं मिला क्योंकि उससे ज्यादा का कोयला चुराकर बेचना आसन
नहीं था.

कमाल कोयले की चोरी के बारे में सोच सोच कर परेशान हो रहा
था क्योंकि वो जानना चाहता था की कोयला किस तरह चुराकर ले जाया गया और किस
बन्दे ने करोडो हज़ार रुपये के कोयलों की चोरी की और किस बन्दे ने करोडो
रुपये के कोयले को हाथो हाथ खरीद लिया. कमाल जानता था की कोयला चुराना कोई
आसन काम नहीं है. कोयला चुराकर बाज़ार तक पहुचाना काफी कठिन था. कमाल फिर से
घर आया और अखबार उठाकर पढ़ने लगा. इस बार उसने हर एक बात ध्यान से पढ़ी तब
उसे मालूम पड़ा की कोयला सिर्फ सरकारी पन्नो पर चोरी हुआ है. असली कोयला
अभी भी वाही पड़ा है जमीन के नीचे, पर आज नहीं तो कल वो जमीन के नीचे से चोरी हो जायेगा.

भी अब बड़ी कोयला चोरी के बारे मे सोचने लगा. वो भी अब सिर्फ पन्नो पर
कोयला चोरी कर के पैसा कमाना चाहता था. कमाल को लगा की पन्नो पर कोयला चोरी करना  आसन है पर उसे पता नहीं था की पन्नो पर कोयला चोरी करने के लिए उसे
पहेले राजीनीति मे आना पड़ेगा और कोयला चोरी के लिए कम से कम विधानशभा का
चुनाव जितना पड़ेगा जो अपने आप मे बहुत बड़ा काम है और कमाल जैसे बन्दों को
आपना पूरा जीवन लगाना पड़ेगा और शायद पूरा जीवन लगाने के बाद भी मौका न

Interview with Rahul Gandhi - #FF

I hope you enjoyed my all past interviews with so many leaders of political parties. I visited Rahul Gandhi for his interview. I am very glad that he gave me interview to write on my blog.

Q1. What do you think about Aam Aadmi Party ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q2. What do you think about Failure of Salman Khan's movie Jai Ho ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q3. What do you think about scam in India ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q4. What do you think about SRK’s last movie ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q5.What do you think about Shikh Riots in delhi ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q6. What do you think about censorship on internet ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q7. What do you think about TRP of Gutthi's New Show ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q8.What do you think about next movie of KRK ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q9. What do you think about Narendra Modi ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q10. What do you think about future of football in India ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

I hope you all enjoyed reading my interview with Mr Rahul Gandhi. Let me tell you that this is transcript of fake interview. There is no LENA DENA of living or non-living thing with above interview and any similarity is merely a coincidence.

Friday, 21 February 2014

कांग्रेस को है चमत्कार का इंतज़ार

कांग्रेस सरकार और घोटालो का दामन चोली का साथ हो गया है। कांग्रेस सरकार घोटालो से निजाद पाना चाहती है परन्तु घोटाले कांग्रेस सरकार का साथ नहीं छोड़ना चाहते है। प्याज से जिस तरह परत दर परत छिलके निकलते है उसी तरह पिछले कुच्छ सालो में कांग्रेस और उसके घटक दलो और नेताओ का नाम परत दर परत घोटालो से बाहर आया है। यदि हम कांग्रेस शासन कल में हुए अग्रणीय घोटालो का जिक्र करे तो 2G, CWG, आदर्श और कोयला घोटाला प्रमुख है।

कांग्रेस शासन काल के सभी घोटाले न्यायालय में विचारधीन है और सभी आरोपी जमानत पर रिहा है। हर घोटाले के पहेले कांग्रेस सरकार ने इसे विपक्ष का षड्यंत्र बताकर उससे पल्ला झाड़ने की कोशिस की पर हर बार उन्हें न्यायालय में मूकी खानी पड़ी। सभी आरोपी कांग्रेस सरकार के साथ किसी ना किसी प्रकार से जुड़े हुए है और कांग्रेस अपने आप को पाक साफ बताती है। घोटालो के इस दल-दल में फंसे कांग्रेस से अन्य राजनितिक दल भी अपनी-अपनी रोटिया सेकने में लगे है।

वाड्रा मामले में सामने आये तथ्यों ने गरीबी में आटा गिला कर दिया और अभी तक सरकार अपने घटक दलों और नेताओ के लिए सफाई पेश कर रही थी परन्तु अब वो नेताओ के रिश्तेदारो के लिए भी सफाई दे रही है। महंगाई भी अपनी चरम सीमा पर है और आम आदमी बनाना रिपब्लिक में परेशान हो रहा है। यदि कांग्रेस के लोग चमत्कार पर विश्वास करते है तो आम आदमी को महंगाई से और कांग्रेस को आगामी चुनावो में हारने से से सिर्फ चमत्कार ही बचा सकता है।